डेज़ी; भाग I

हैंस क्रिश्चियन एंडरसन की एक छोटी कहानी। यह एक डेज़ी फूल और एक भरत पक्षी (लार्क) से संबंधित है। फूल और पक्षी दोनों ही अपने प्राकृतिक परिवेश में पनपते हैं।

मध्यम वर्ग
इस कहानी को Beelinguapp में पढ़ें और सुनें!

डेज़ी; भाग I

हैंस क्रिश्चियन एंडरसन की एक छोटी कहानी। यह एक डेज़ी फूल और एक भरत पक्षी (लार्क) से संबंधित है। फूल और पक्षी दोनों ही अपने प्राकृतिक परिवेश में पनपते हैं।

मध्यम वर्ग
इस कहानी को Beelinguapp में पढ़ें और सुनें!

आप सुनो!
गाँव में, बड़ी सड़क के किनारे एक फ़ार्म हाउस बना हुआ है; हो सकता है कि तुम उसके पास से गुजरे हो और तुमने खुद उसे देखा हो।
वहाँ एक फूलों का छोटा बगीचा था, जिसके सामने पेंट किया गया लकड़ी का तख़्ता लगा हुआ था; उसके नज़दीक ही एक गड्ढा था, और उसके ताज़ा हरे किनारे पर नन्हा डेज़ी उगा हुआ था। सूरज उसके ऊपर भी उतनी ही गरमाहट और उज्ज्वलता के साथ चमकता था, जितना कि वह उस शानदार बगीचे के फूलों के ऊपर चमकता था, और इसलिए डेज़ी भी अच्छी तरह फल-फूल रहा था।
एक सुबह वह काफ़ी खिल गया, और उसकी नन्हीं सफ़ेद पंखुड़ियाँ बीच के पीले भाग के किनारों पर खड़ी हो गईं, जैसे कि सूरज की किरणें होती हैं।
उसे इस बात की कोई चिंता नहीं कि घास के बीच उसे किसी ने नहीं देखा, और कि वह बेचारा अलग-थलग फूल था; इसके बजाय, वह काफ़ी ख़ुश था, और वह सूरज की तरफ़ घूमा, वह ऊपर की तरफ़ देख रहा था और बहुत ऊपर हवा में लार्क या लवा पक्षी का गीत सुन रहा था।

किसी भी भाषा में पढ़ें और सुनें

Tags:
डेज़ी; भाग I अंग्रेजी में डेज़ी; भाग I स्पेनिश में डेज़ी; भाग I जर्मन में डेज़ी; भाग I स्वीडिश में डेज़ी; भाग I इतालवी में डेज़ी; भाग I जापानी में डेज़ी; भाग I कोरियाई में डेज़ी; भाग I पुर्तगाली में डेज़ी; भाग I फ्रेंच में डेज़ी; भाग I तुर्किश में डेज़ी; भाग I हिंदी में