बदसूरत बत्तख; भाग I

अपनी खुद की जगह ढूँढ़ने के बारे में एक प्यारी कहानी। हंस क्रिश्चियन एंडरसन की क्लासिकल परिकथा जो सबसे ज्यादा लोकप्रिय परिकथाओं में से एक है।

मध्यम वर्ग
इस कहानी को Beelinguapp में पढ़ें और सुनें!

बदसूरत बत्तख; भाग I

अपनी खुद की जगह ढूँढ़ने के बारे में एक प्यारी कहानी। हंस क्रिश्चियन एंडरसन की क्लासिकल परिकथा जो सबसे ज्यादा लोकप्रिय परिकथाओं में से एक है।

मध्यम वर्ग
इस कहानी को Beelinguapp में पढ़ें और सुनें!

एक बार की बात है, एक पुराने खेत में, बत्तख का एक परिवार रहता था, और माता बत्तख नए अंडों के खेप पर बैठी हुई थी। एक प्यारी सुबह, अंडे फूट गए और उनमें से शोर मचाते हुए बत्तख के छह बच्चे निकले। लेकिन एक अंडा बाकी की तुलना में बड़ा था, और यह नहीं फूटा। माता बत्तख को याद नहीं आया कि उसने यह सातवाँ अंडा दिया था कि नहीं। यह यहाँ कैसे आया? टॉक! टॉक! अंडे का नन्हा कैदी भीतर से चोंच मार रहा था।

किसी भी भाषा में पढ़ें और सुनें

Tags:
बदसूरत बत्तख; भाग I अंग्रेजी में बदसूरत बत्तख; भाग I स्पेनिश में बदसूरत बत्तख; भाग I जर्मन में बदसूरत बत्तख; भाग I स्वीडिश में बदसूरत बत्तख; भाग I इतालवी में बदसूरत बत्तख; भाग I जापानी में बदसूरत बत्तख; भाग I कोरियाई में बदसूरत बत्तख; भाग I पुर्तगाली में बदसूरत बत्तख; भाग I फ्रेंच में बदसूरत बत्तख; भाग I तुर्किश में बदसूरत बत्तख; भाग I हिंदी में