गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II

"लिलिपुट की यात्रा" का अध्याय I, गुलिवर की यात्राओं में पहली। जोनाथन स्विफ़्ट की सुप्रसिद्ध पुस्तक।

उन्नत
इस कहानी को Beelinguapp में पढ़ें और सुनें!

गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II

"लिलिपुट की यात्रा" का अध्याय I, गुलिवर की यात्राओं में पहली। जोनाथन स्विफ़्ट की सुप्रसिद्ध पुस्तक।

उन्नत
इस कहानी को Beelinguapp में पढ़ें और सुनें!

मैंने उठने की कोशिश की, लेकिन हिल भी नहीं सका: क्योंकि, जैसा कि मैं अपनी पीठ के बल लेटा हुआ था, मैंने पाया कि मेरे हाथ और पैर ज़मीन पर हर तरफ मज़बूती से बाँध दिए गए थे; और मेरे बाल भी, जो लंबे और मोटे थे, उसी तरीके से बाँध दिए गए थे। इसी तरह मैंने अपने पूरे शरीर पर कई पतली गाँठें महसूस कीं, जो मेरी बाँहों से मेरी जाँघों तक फैली हुई थीं। मैं केवल ऊपर की ओर देख सकता था; सूर्य गरम होना शुरू हो चुका था, और रोशनी ने मेरी आँखों में चुभ रही थी।

किसी भी भाषा में पढ़ें और सुनें

Tags:
गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II अंग्रेजी में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II स्पेनिश में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II जर्मन में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II स्वीडिश में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II इतालवी में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II जापानी में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II कोरियाई में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II पुर्तगाली में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II फ्रेंच में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II तुर्किश में गुलिवर की यात्राएँ - लिलिपुट की यात्रा I; भाग II हिंदी में